Pages

Wednesday, 14 March 2012

भारतीयों के लिए सबसे बड़ी चिंता भ्रष्टाचार और घोटाले, अन्य के लिए नौकरी


भारतीयों के लिए सबसे बड़ी चिंता भ्रष्टाचार और घोटाले, अन्य के लिए नौकरी 

Tuesday, 13 March 2012 19:08
नयी दिल्ली, 13 मार्च (एजेंसी) दुनिया में इस समय लोग अपनी नौकरी को लेकर सबसे ज्यादा चिंतित हैं, वहीं भारतीय सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार और घोटालों से परेशान हैं। एक ताजा सर्वेक्षण में यह तथ्य सामने आया है। 
वैश्विक अनुसंधान फर्म इप्सॉस के सर्वेक्षण के अनुसार, ''71 प्रतिशत भारतीयों का कहना है कि भ्रष्टाचार तथा वित्तीय और राजनीतिक घोटाले उनको सबसे ज्यादा परेशान कर रहे हैं।'' 
वहीं आतंकवाद भी भारतीयों के लिए एक बड़ी चिंता है। 38 फीसद भारतीयों ने आतंकवाद को चिंता बताया, वहीं 34 प्रतिशत अपराध और हिंसा तथा 31 फीसद ने गरीबी और सामाजिक असमानता को सबसे बड़ी चिंता की वजह बताया। 
बेरोजगारी और नौकरी को लेकर 28 प्रतिशत भारतीयों ने चिंता जताई। वहीं 15 प्रतिशत कर की उच्च्ंची दरों तथा 14 फीसद स्वास्थ्य सेवा और शिक्षा को लेकर परेशान हैं।
इप्सॉस के सर्वेक्षण में 24 देशों के 18,000 लोगों को शामिल किया गया। वैश्विक स्तर पर 49 प्रतिशत लोगों ने बेरोजगारी और नौकरी को अपनी सबसे बड़ी चिंता बताया। वैश्विक स्तर पर इसके बाद गरीबी और सामाजिक असमानता, भ्रष्टाचार और घोटाले तथा अपराध और हिंसा का नंबर आता है। 
इप्सॉस ने कहा कि भारत में हाल में कई घोटाले और भ्रष्टाचार के मामले सामने आए, जिसने सरकार के लिए काफी परेशानी पैदा की। इससे सुधारों की गति धीमी हुई, विपक्ष ने संसद की कार्यवाही ठप की। जन लोकपाल विधेयक पर सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने आंदोलन छेड़ा। 
इसमें कहा गया है कि भ्रष्टाचार के स्तर के हिसाब से ट्रांसपैरेंसी इंटरनेशनल की रेटिंग में भारत 87वें स्थान पर है। ऐसे में यह देखकर आश्चर्य नहीं होना चाहिए कि भारतीयों को सबसे बड़ी चिंता भ्रष्टाचार और घोटालों की है। 
सर्वेक्षण में 45 फीसद भारतीयों ने कहा कि देश में चीजें सही दिशा में अग्रसर हैं। यह पिछले साल की तुलना में 27 फीसद की गिरावट है। इप्सॉस ने कहा कि हाल के समय में भ्रष्टाचार के कई बड़े मामले सामने आए हैं जिससे भारतीयों का भरोसा डगमगा गया है।