Pages

Wednesday, 2 May 2012

‘‘डकैत और हत्यारे’’ हैं सांसदः रामदेव


''डकैत और हत्यारे'' हैं सांसदः रामदेव

Wednesday, 02 May 2012 16:28
नयी दिल्ली, दो मई (एजेंसी) रामदेव ने कहा, ''वे धन के दोस्त और गुलाम हैं । वे मानव के रूप में राक्षस हैं जिन्हें हमने चुना है।
योग गुरु बाबा रामदेव ने सांसदों पर निशाना साधकर विवाद को जन्म दिया है। योग गुरु ने उन्हें ''डकैत और हत्यारे'' कहा है ।
लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार और भाजपा के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा सहित कई सांसदों ने इसकी निंदा की और लोगों से कहा कि वे संसद का सम्मान करें ।
छत्तीसगढ़ दुर्ग से अपनी महीने भर लंबी यात्रा की शुरुआत करते हुए रामदेव ने कहा, ''ये वह लोग हैं जो परवाह नहीं करते, किसानों से प्यार नहीं करते, देश के श्रमिकों या लोगों को नहीं चाहते ।''
रामदेव ने कहा, ''वे धन के दोस्त और गुलाम हैं । वे अशिक्षित, डकैत और हत्यारे हैं । वे मानव के रूप में राक्षस हैं जिन्हें हमने चुना है । वे इस लायक नहीं हैं ।''
उन्होंने कहा कि अच्छे सांसद भी हैं और हम उनका सम्मान करते हैं । रामदेव ने कहा, ''लेकिन उनके बीच डकैत, हत्यारे और अशिक्षित भी हैं । हमें संसद को बचाना होगा । हमें भ्रष्ट लोगों को हटाना होगा।''
इससे पहले हजारे और उनकी टीम खासकर अरविंद केजरीवाल ने संसद पर गुस्सा दिखाया था और सांसदों पर निशाना साधा था । केजरीवाल ने सांसदों को हत्यारा और बलात्कारी कहा था। इसके अलावा उन्होंने 14 मंत्रियों के नाम भ्रष्ट के रूप में गिनाए ।
लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने कहा, ''संविधान सर्वोपरि है । इसने संसद को एक निश्चित ओहदा दिया है । हम सभी को इसका ख्याल करना चाहिए ।''
सिन्हा ने कहा कि सांसदों और संसद का अपमान और वास्तव में संविधान का अपमान अब सामान्य बात हो गई है । उन्होंने कहा कि जो लोग इसका अपमान करते हैं वे अब बड़े नायक हो गए हैं ।
उन्होंने कहा, ''यह पूरी तरह गलत है । किसी को यह अधिकार नहीं है, भले ही वह कितना भी बड़ा आदमी हो... इससे लोकतांत्रिक संस्थानों का अपमान होता है ।''
केंद्रीय मंत्री हरीश रावत ने कहा कि रामदेव पूरी लोकतांत्रिक व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर रहे हैं ।
भाजपा सांसद कीर्ति आजाद ने कहा, ''इस देश में स्थिति ऐसी हो गई है कि कोई भी कुछ भी बोल सकता है और बच सकता है ।''
उन्होंने कहा, ''किसी पर भी कोई नियंत्रण नहीं है । बहरहाल मैं आश्चर्यचकित हूं कि रामदेव ने ऐसी टिप्पणी की । बिजली में कटौती के खिलाफ मैंने भी सीआरपीसी की धारा 144 का उल्लंघन किया इसलिए मुझे भी अपराधी बताया जा सकता है । लेकिन मैं उनसे ऐसी टिप्पणी की उम्मीद नहीं कर रहा था ।''
कांग्रेस सांसद जगदंबिका पाल ने कहा कि संसद और सांसदों का चरित्र हनन स्वीकार्य नहीं है ।