Pages

Sunday, 15 April 2012

राजधानी में कल से दूध 2 रुपये लीटर महंगा


राजधानी में कल से दूध 2 रुपये लीटर महंगा

Sunday, 15 April 2012 17:39
अहमदाबाद, 15 अप्रैल (एजेंसी) राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली तथा इसके आसपास दूध कल से दो रुपये लीटर तक महंगा हो रहा है।
राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली तथा इसके आसपास के इलाके यानी एनसीआर में दूध कल से दो रुपये लीटर तक महंगा हो रहा है क्योंकि दूध बेचने वाली दो प्रमुख कंपनियों ने दाम बढाने का फैसला किया है। हालांकि मदर डेयरी ने दाम बढाने के बारे में अभी कोई फैसला नहीं किया है। 
अमूल तथा क्वालिटी डेयरी ने दूध के दाम कल से बढाने की घोषणा की है। एनसीआर में दूध बेचने वाली दो अन्य प्रमुख कंपनियों में मदर डेयरी व पारस है। एनसीआर में हर दिन 115 लाख लीटर से अधिक दूध की खपत होती है। 
गुजरात सहकारी दुग्ध विपणन संघ :जीसीएमएमएफ: के प्रबंध निदेशक आर एस सोढी ने पीटीआई को बताया, े दिल्ली एनसीआर में अमूल ताजा :टोंड: दूध का दाम कल 29 से बढ़कर 30 रुपये लीटर हो जाएगा। इसी तरह अमूल गोल्ड या फुलकीम दूध का दाम अब 38 रुपये के बजाय 40 रुपये लीटर होगा। े
संघ अपने उत्पाद अमूल ब्रांड नाम से बेचता है। उसके स्लिम एंड ट्रिम ब्रांड दूध की कीमत कल से एक रुपये बढ़कर 26 रुपये प्रति लीटर हो जाएगी।
वहीं क्वालिटी डेयरी के विपणन उपाध्यक्ष राजेश वर्मा ने कहा कि कंपनी फुलकीम दूध के दाम दो रुपये तथा टोंड व डबलटोंड दूध के दाम एक एक रुपये प्रति लीटर बढाएगी।  कंपनी दिल्ली, एनसीआर में हर दिन 1.25 लाख लीटर दूध बेचती है।
हालांकि, इस क्षेत्र में सबसे अधिक दूध बेचने वाली मदर डेयरी ने कहा है कि वह कीमतों में तत्काल बढोतरी नहीं करेगी। 
सोढी ने कीमत में इस वृद्धि के लिए लागत बढने को जिम्मेदार बताया है और उन्होंने कहा कि किसानों से होने वाली खरीदारी के दाम भी बढाए गए हैं। जीसीएमएमएफ दिल्ली व राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में हर दिन लगभग 20 लाख लीटर दूध की आपूर्ति करती है। यहां वह मदर डेयरी के बाद दूसरी सबसे बड़ी दूध आपूर्तिकर्ता है। 
मुंबई में अमूल दूध के दाम में इस तरह की वृद्धि 11 अप्रैल को की गई थी। जीसीएमएमएफ अपने उत्पाद  ेअमूल े ब्रांड नाम से बेचती है और वह गृह राज्य गुजरात में यह वृद्धि 10 अप्रैल से कर चुकी है।
मदर डेयरी के प्रबंध निदेशक एस नागराजन ने कहा, े हम उपभोक्ता मूल्य तथा खरीद मूल्य में संतुलन बनाकर चलते हैं। हमारी कÑय मूल्य पर करीबी निगाह है। गर्मियों में इसके उतार चढाव के आधार पर हम हमारे उपभोक्ता मूल्य की समीक्षा करेंगे। े उन्होंने कीमतों में तत्काल वृद्धि की संभावना पर नकारात्मक जवाब दिया। 
इस बारे में पारस के प्रवक्ता से संपर्क नहीं किया जा सका।