Pages

Thursday, 4 April 2013

सभी समुदायों को साथ लेकर चलने की बात की राहुल ने



सभी समुदायों को साथ लेकर चलने की बात की राहुल ने

Thursday, 04 April 2013 11:48
नयी दिल्ली। राहुल ने हालांकि अपने प्रधानमंत्री बनने संबंधी सवालों को टाल दिया। राहुल गांधी ने आज एक तरह से भाजपा की नीतियों पर निशाना साधते हुए कहा कि समुदायों को अलग थलग करने की राजनीति विकास को प्रभावित करती है और कांग्रेस समावेशी वृद्धि की समर्थक है।
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल ने कहा कि भारत ने संप्रग सरकार के कार्यकाल में तीव्र आर्थिक वृद्धि दर्ज की क्योंकि उसने समुदायों के बीच तनाव घटाया तथा सौहा्रर्द को बढाया।
यहां उद्योग मंडल सीसीआई की सालाना आम बैठक में उन्होंने कहा, े जब आप समुदायों को अलग थलग करने की राजनीति करते हैं तो आप लोगों तथा विचारों का आवागमन रोक देते हैं। जब ऐसा होता है तो हम सभी प्रभावित होते हैं। व्यापार प्रभावित होता है और दुराव के बीज बोये जाते हैं। हमारी जनता के सपनों पर प्रतिकूल असर पड़ता है। े इस नुकसान की भरपाई में लंबा समय लगता है। 
राहुल ने कहा, े लोगों को पीछे छोड़ना बहुत खतरनाक है। समावेषी विकास सभी के लिए फायदे का सौदा है। े


प्रधानमंत्री बनने और शादी करने के कयास अप्रासंगिक: राहुल गांधी
नयी दिल्ली। राहुल गांधी ने उनके प्रधानमंत्री बनने और तथा शादी करने की अटकलों को आज अप्रासंगिक सवाल बताया। सीआईआई की सालाना आम बैठक को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा, ''मुझसे प्रेस के लोग अक्सर यह पूछते हैं कि आप शादी कब कर रहे हैं।कुछ दूसरे पूछते हैं, बॉस, आप प्रधानमंत्री कब बनने जा रहे हैं । कुछ लोग कहते हैं, आप प्रधानमंत्री नहीं बनने जा रहे हैं । कुछ कहते हैं हो सकता है आप प्रधानमंत्री बनेंगे, अच्छी संभावनायें हैं ।''
 
उन्होंने कहा, ''यह अमेरिकी पोलिंग चार्ट की तरह है । 47 . 3 प्रतिशत संभावना है कि वह प्रधानमंत्री बन सकते हैं .... इस देश में एक मात्र प्रासंगिक सवाल यह है कि हम अपने लोगों को स्वर कैसे दे सकते हैं ।''
इससे पहले इस साल एक मौके पर राहुल गांधी ने कहा था, यह पूछना कि वह प्रधानमंत्री कब बन रहे हैं, ''एक गलत सवाल'' है । 
राहुल की यह टिप्पणी कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह के उस बयान के बाद आयी है जिसमें उन्होंने शीर्ष पद के लिए राहुल गांधी की वकालत करते हुए कहा था कि पृथक पार्टी अध्यक्ष और प्रधानमंत्री की मौजूदा व्यवस्था कारगर नहीं रही । 
कांग्रेस ने हालांकि सिंह के विचारों को खारिज कर दिया और कहा कि प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के बीच तालमेल एक आदर्श माडल है जो भविष्य में भी जारी रह सकता है ।
 


राहुल 'भ्रमित नेता' और 'मोदीभय' से ग्रसित दिख रहे हैं : भाजपा

नयी दिल्ली। भाजपा ने भारतीय उद्योग परिसंघ के सम्मेलन में आज कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण पर कहा कि वह ''भ्रमित नेता'' और ''मोदीभय'' से ग्रसित नजर आ रहे हैं।
पार्टी प्रवक्ता प्रकाश जावडेकर ने यहां कहा, ''एक भ्रमित नेता ने अपनी भ्रमित विचारधारा को पेश किया जिसे कोई समझ नहीं सका। उनकी बातों में 'मोदीभय' भी साफ नजर आ रहा था।''
जावडेकर ने कहा ''राहुल का भाषण दर्शाता है कि वह अपनी ही दुनिया में रह रहे हैं। उन्हें इस बात का जवाब देना था कि संप्रग के नौ साल के शासन में क्या हुआ लेकिन उनके भाषण में भ्रष्टाचार या मंहगाई का कोई उल्लेख नहीं आया। जवाब देने की बजाय वह सवाल कर रहे थे। यह एक तरह से इस बात की स्वीकारोक्ति है कि इतने सालों में कुछ नहीं किया गया।''
भाजपा की अन्य प्रवक्ता निर्मला सीतारमण ने कटाक्ष किया कि कांग्रेस नीत संप्रग सरकार ने राहुल के विचारों को अभी तक लागू क्यों नहीं किया।
उन्होंने कहा, वह हैरान है कि राहुल ने अपने भाषण में इतने सारे विचारों को रखा लेकिन उनकी पार्टी की खुद की सरकार ने उन विचारों को लागू क्यों नहीं किया।