Pages

Sunday, 17 February 2013

217 करोड़ रुपये कमीशन देने को तैयार हुई थी अगस्तावेस्टलैंड


217 करोड़ रुपये कमीशन देने को तैयार हुई थी अगस्तावेस्टलैंड

hursday, 14 February 2013 17:38
नयी दिल्ली । इटली की सरकारी कंपनी अगस्तावेस्टलैंड ने हेलीकॉप्टर सौदा हासिल करने के लिए 'भ्रष्ट गतिविधि' के तौर पर 217 करोड़ रुपये देने का मन बनाया था।
इटली की सरकारी कंपनी अगस्तावेस्टलैंड ने भारत से 3,600 करोड़ रुपये के हेलीकॉप्टर सौदे को हासिल करने के लिए 'भ्रष्ट गतिविधि' के तौर पर कथित रूप से 217 करोड़ रुपये देने का मन बनाया था। 
इटली के जांचकर्ताओं द्वारा वहां की एक अदालत में दाखिल रिपोर्ट के अनुसार बिचौलियों ने 12 वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों के लिए 7.5 प्रतिशत कमीशन पर रजामंदी जताई थी।
अंतत: करीब 362 करोड़ रुपये रिश्वत देने की बात सामने आई।
ट्यूनीशिया और भारत में पंजीकृत कंपनियों के बीच संपर्कों के माध्यम से भुगतान उस समय भी चल रहा था जब घोटाले का भंडाफोड़ हुआ।
रिपोर्ट के मुताबिक फिन्मेकेनिका ग्यूसेप ओर्सी और अगस्तावेस्टलैंड के सीईओ ब्रूनो स्पेगनोलिनी ने एक मुख्य बिचौलिये क्रिस्टियन मिशेल को तीन करोड़ यूरो :217 करोड़ रुपये: का भुगतान किया था।
दोनों कंपनियों के गिरफ्तार किये गये सीईओ ने दो अन्य कथित बिचौलियों गीडो राल्फ हाश्के और कार्लो गेरोसा को एडब्ल्यू स्पा और गार्डियन सर्विसेस सार्ल के बीच संपर्क के माध्यम से 4 लाख यूरो :करीब 2.8 करोड़ रुपये: का भुगतान भी किया जिनमें से एक लाख यूरो :72 लाख रुपये: नगद त्यागी बंधुओं :जूली, डोक्सा और संदीप: को दिये गये।
रिपोर्ट में कहा गया है कि बिचौलियों का पूर्व वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल एस पी त्यागी के परिवार और खासकर उनके रिश्ते के तीन भाइयों से करीबी संबंध था।
'एडीआर' नाम वाले एक बिचौलिये ने पूछताछ में दावा किया था कि बिचौलिये जप्पा की त्यागी से मुलाकात उस समय हुई जब निविदा 'सूचना के लिए अनुरोध' :आरएफआई: के स्तर पर थी।
रिपोर्ट के मुताबिक एडीआर ने कहा कि जप्पा..एसीएम त्यागी की मुलाकात में 18 हजार फुट की उच्च्ंचाई का मसला भी आया जिसके चलते व्यावहारिक तौर पर सभी दावेदार दौड़ से बाहर हो रहे थे और केवल फ्रांसीसी कंपनी यूरोकॉप्टर इस लिहाज से फिट थी लेकिन उसका मॉडल वीआईपी नहीं था।
उन्होंने कहा, ''जब निविदा जारी की गयी तो मैंने ओर्सी या लुनार्डी को सूचित किया कि 18 हजार फुट की सीमा को कम कर दिया गया है। जिसे अब 15 हजार फुट निर्धारित किया गया है। इससे रूसी और अमेरिकी कंपनियों के साथ अगस्ता भी दौड़ में फिर से आ गयी।''
बिचौलिये ने कथित तौर पर दावा किया कि उसने एसीएम त्यागी के तीनों भाइयों को करीब 72 लाख रुपये का भुगतान किया था।
उसने अपने और गेरोसा के लिए भी धन रखने की बात कही।
इतालवी जांच अधिकारियों की रिपोर्ट के अनुसार बिचौलिये ने आरोप लगाया कि त्यागी उन्हें मुलाकातों के दौरान निविदा की प्रक्रिया के बारे में बताया करते थे।
रिपोर्ट कहती है कि हाश्के और गेरोसा ने त्यागी बंधु के जरिये सबसे पहले तो निविदा के ब्योरे में बदलाव करा लिया और 18 हजार फुट की सीमा को 15 हजार फुट करा लिया ताकि अगस्ता वेस्टलैंड स्पा इस प्रक्रिया में शामिल हो सके।
इटली में ओर्सी और स्पेगनोलिनी की गिरफ्तारी के बाद भारत ने तीन एडब्ल्यू..101 हेलीकॉप्टरों की आपूर्ति पर रोक लगा दी है जो शेष छह हेलीकॉप्टरों के साथ मार्च में आने थे।
हेलीकॉप्टरों के लिए भुगतान भी रोक दिया गया है और रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि करार के तहत वह सौदे के लिए दी गयी पूरी राशि को वापस पा सकता है। (भाषा)