Pages

Wednesday, 16 May 2012

येदियुरप्पा और उनके परिजन के यहां पड़े सीबीआई के छापे


येदियुरप्पा और उनके परिजन के यहां पड़े सीबीआई के छापे

Wednesday, 16 May 2012 20:31
बेंगलूर, 16 मई (एजेंसी) कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा के लिए आज परेशानी और बढ़ गई।
सांसत में पड़े कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एवं वरिष्ठ भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा के लिए आज उस समय परेशानी और बढ़ गई जब सीबीआई ने उच्चतम न्यायालय के निर्देशों पर अवैध खनन में उनकी कथित भूमिका की जांच शुरू करते हुए उनके तथा उनके परिवार के कई सदस्यों के आवासीय परिसरों पर छापे मारे।
उच्चतम न्यायालय के आदेश से लैस एजेंसी के अधिकारियों ने दो खनन कंपनियों पर भी छापे मारे जिन्होंने मुख्यमंत्री के रूप में येदियुरप्पा के शासनकाल में सरकार से कथित अनुचित तरफदारी के बदले येदियुरप्पा परिवार से संचालित एक न्यास में विशाल धनराशियां दान की थीं।
प्राथमिकी दर्ज होने के एक दिन बाद सीबीआई अधिकारियों ने बेंगलूर तथा शिमोगा जिलों स्थित येदियुरप्पा, उनके बेटे बीवाई राघवेंद्र :लोकसभा सदस्य: और बीवाई विजयेंद्र तथा दामाद सोहन कुमार, पूर्व मंत्री एसएन कृष्णैया शेट्टी के निवासों और संपत्तियों और परिसरों के साथ ही येदियुरप्पा परिवार की मिल्कियत वाली दावलागिरि प्रोपर्टीज के परिसर पर छापे मारे।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि बेंगलूर और हैदराबाद के संयुक्त दलों ने 11 स्थानों पर ये छापे मारे।     
सूत्रों ने बताया कि मैसूर स्थित येदियुरप्पा के रिश्तेदारों के कुछ निवास भी जांच के दायरे में आए हैं।
सूत्रों ने बताया कि सीबीआई ने येदियुरप्पा के एक और दामाद उदयकुमार और उनकी बेटी उमादेवी से शिमोगा में पूछताछ की है।
छापेमारी का सिलसिला शाम तक चला। इस दौरान अवैध खनन से संबंधित कुछ दस्तावेज भी जब्त किए।
पुलिस सूत्रों ने बताया कि सीबीआई ने बेल्लारी स्थित जेएसडब्ल्यू स्टील तथा साउथ वेस्ट माइनिंग कंपनी लिमिटेड के कार्यालयों पर भी छापे मारे । इसके अलावा एक खनन पट्टाधारक के घर पर भी छापेमारी की गई ।
केंद्रीय जांच ब्यूरो :सीबीआई: ने यह कार्रवाई भारतीय दंड संहिता तथा खनन एवं खनिज :विकास एवं नियमन: अधिनियम तथा भ्रष्टाचार निरोधी अधिनियम के प्रावधानों के तहत आपराधिक साजिश एवं विश्वासघात के आरोप में मामला दर्ज करने के बाद की।
येदियुरप्पा पर आरोप है कि उन्होंने अपने परिवार द्वारा संचालित एक धर्मार्थ ट्रस्ट को दान दिए जाने के बदले दो कपंनियों को अनुचित लाभ पहुंचाया ।
सुबह छह बजकर 15 मिनट पर शुरू हुई छापेमारी हैदराबाद तथा बेंगलूर के सीबीआई अधिकारियों की संयुक्त टीम कर रही थी।
अवैध खनन मामले में अपने निवास स्थलों पर सीबीआई छापे के कुछ ही घंटे बाद कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा और उनके कुछ परिजन ने अग्रिम जमानत का आग्रह करते हुए सीबीआई अदालत का दरवाजा खटखटाया।
वरिष्ठ भाजपा नेता के अतिरिक्त उनके दो पुत्र - बी. वाई. राघवेन्द्र और बी. वाई. विजेन्द्र, और दामाद सोहन कुमार ने आवेदन किया।
अदालत ने सीबीआई को कल तक अपनी आपत्ति दाखिल करने का निर्देश दिया। कल मामला सुनवाई के लिए पेश किया जाएगा।
छापे यहां येदियुरप्पा के डॉलर्स कालोनी और रेसकोर्स स्थित आवासों तथा उनके एक बेटे के स्वामित्व वाली कंपनी पर मारे गए ।
उच्चतम न्यायालय ने सीबीआई जांच का आदेश तब दिया जब न्यायालय की तरफ से गठित अधिकार प्राप्त सामिति ने अपनी रिपोर्ट में येदियुरप्पा और कॉरपोरेट हस्तियों पर कई आरोप लगाए तथा केंद्रीय एजेंसी से जांच कराए जाने की सिफारिश की ।