Pages

Wednesday, 16 May 2012

सोनी सोरी को लेकर सीपीएम में सुगबुगाहट


सोनी सोरी को लेकर सीपीएम में सुगबुगाहट



सीपीएम पोलित ब्यूरो सदस्य वृंदा करात ने राष्ट्रपति से मुलाकात में कहा कि दंतेवाड़ा के एसपी अंकित गर्ग पर जेल में बंद सोनी सोरी पर अत्याचार किये जाने के गंभीर अरोप हैं, जबकि खुद राष्ट्रपति ने उसे इस बार उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार से नवाजा है...
जनज्वार. करीब छह महीने पहले दक्षिणी दिल्ली से गिरफ्तार की गयीं आदिवासी शिक्षिका सोनी सोरी के मामले में गरीबों-मजदूरों की पार्टी सीपीएम ने अब सूध ली है.पार्टी की पोलित ब्यूरो सदस्य वृंदा करात एक प्रतिनिधि मंडल के साथ दिल्ली में राष्ट्रपति से मिल आयीं हैं और इस मामले में उनसे हस्तक्षेप की मांग की है.
sonisori
छत्तीसगढ़ में माओवादियों के लिए एस्सार कंपनी से फंड जुटाने के आरोप में छत्तीसगढ़ पुलिस द्वारा सोनी सोरी को पिछले वर्ष 4 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था.दिल्ली से गिरफ्तार कर पुलिस उन्हें छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जेल ले गयी थी .
सोनी सोरी के जेल से बाहर आये पत्रों, उनके वकीलों द्वारा अदालतों में पेश हलफनामों और सामाजिक कार्यकर्ताओं द्वारा सोनी सोरी के पक्ष में चलाये जा रहे अभियानों से साफ है कि जेल में आदिवासी शिक्षिका को गंभीर रूप प्रताडि़त किया गया है.जेल से बाहर आये पत्रों में सोनी सोरी ने नाम लिखकर बताया है कि जेल में पुलिस वालों ने जिले के एसपी अंकित गर्ग के कहने पर उसके गुप्तांगों में पत्थर भर डाले थे.बाद में कलकत्ता के एक अस्पताल के डाक्टरों ने उन पत्थरों को सर्वोच्च न्यायालय के सामने दिखाया भी था.
सीपीएम पोलित ब्यूरो सदस्य वृंदा करात ने राष्ट्रपति से मुलाकात में कहा कि दंतेवाड़ा के एसपी अंकित गर्ग पर जेल में बंद सोनी सोरी पर अत्याचार किये जाने के गंभीर अरोप हैं, जबकि खुद राष्ट्रपति ने उसे इस बार उन्हें राष्ट्रपति पुरस्कार से नवाजा है.गौरतलब है कि एसपी अंकित गर्ग को राष्ट्रपति सम्मान नहीं दिए जाने को लेकर सामाजिक कार्यकर्ताओं  ने अभियान भी चलाया था, लेकिन उनकी एक न सुनी गयी थी.
वृंदा करात के मुताबिक, 'इस मामले में राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने राज्य सरकार, केंद्र सरकार और जिम्मेदार विभागों को पत्र लिखने का आश्वासन दिया है।'