Pages

Friday, 28 February 2014

जाति का उन्मूल��: कल, आज और कल

जाति का उन्मूलन: कल, आज और कल<http://www.junputh.com/2014/02/blog-post_14.html>
<http://1.bp.blogspot.com/-YHrP2sHpXSI/Uv3N9qS3NrI/AAAAAAAACcM/jjIXMuiZT4g/s1600/Anand-Teltumbde.jpg>*आनंद
तेलतुम्‍बड़े *

*आनंद तेलतुम्बड़े हमारे समय के सबसे महत्‍वपूर्ण चिंतकों में एक हैं। पिछले
दिनों उनके कहे-लिखे पर काफी विवाद खड़ा किया गया है। प्रस्‍तुत लेख उन्‍होंने
''समयांतर'' के लिए लिखा था जिसका अनुवाद अभिषेक श्रीवास्‍तव ने किया है। यह
समयांतर के फरवरी अंक में प्रक